क्या पूर्व मुख्यमंत्री स चरणजीत सिंह चन्नी को दिल्ली के कांग्रेसी नेता भी सहयोग नहीं कर रहे

19
0

काग्रेंस के कद्दावर नेता और पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री स चरणजीत सिंह चन्नी जालंधर से कांग्रेस के उम्मीदवार हैं और बहुत मेहनत से चुनाव लड़ रहे हैं। सुनने में आ रहा है कि कांग्रेस के कुछ नेता चन्नी के जालंधर से संसदीय चुनाव लड़ने से सहज नहीं है। सुना जा रहा है कि चन्नी को जालंधर में कैंट से विधानसभा के सदस्य परगट सिंह लेकर आए हैं। जालंधर के कुछ काग्रेस के नेता जो हमेशा परगट सिंह के विरोधी रहे चन्नी को भी दिखावे का समर्थन कर रहे। चन्नी भी देहात में कम जा रहे ज्यादा जोर शहर की सीटों पर ही लगा रहे हैं। हालांकि जालंधर में काग्रेस के पांच विधायक हैं, फिर भी चन्नी को चुनाव उतना आसान नहीं लग रहा जितना कि होना चाहिए। ऐसा सुना जा रहा है कि कांग्रेस और आम आदमी पार्टी पंजाब की सभी सीटों को मिल कर लड़ रहे हैं। कुछ सुनी सुनाई चर्चा भी है कि जालंधर की सीट पर कांग्रेस को जिताने का मन शायद आम आदमी पार्टी के लोगों ने भी बना रखा है। परन्तु देखने में आ रहा है कि कांग्रेस के कुछ नेता एक ओपचारिकता दिखा रहे हैं। कोई भी दिल से काम नहीं करता लग रहा। एक और कि किसी बड़े नेता का चुनाव प्रचार में ना आना कयी सवाल खड़े करता है। यह बातें हम अपने तजुर्बे से आपके सामने रख रहे हैं। हम किसी विशेष पार्टी या व्यक्ति के हक की बात नहीं करते। वैसे चन्नी एक बहुत बढ़िया वर्कर टाईप नेता हैं, दो तीन बार विधायक रहे, मन्त्री भी रहे और उन्हें बड़े पद और सरकारी कार्यों का अनुभव भी है, वो जमीनी कार्यकर्ता हैं। देहाती क्षेत्र के लोगो तक अभी पहुँच नहीं पा रहे। वैसे सांसद का चुनाव आमतौर पर पार्टी के वर्कर ही लड़ते हैं और उम्मीदवार तो पूरे हल्के में लोगों से मिल भी नहीं पाता। कहीं कहीं कांग्रेस के नेता और वर्कर एक्टिव नहीं हैं । ऐसा कहा जाता है कि जब शायद यह चुनाव शुरू हुआ था तो चन्नी लगभग सभी उम्मीदवारों से काफी आगे थे, हमें तो डर है कि कहीं कांग्रेस के नेता ही इस चुनाव को मुश्किल न बना दें।