Punjab: कांग्रेस के मेनिफेस्‍टो और केजरीवाल को लेकर बोले तरुण चुघ, कह दी ये बड़ी बात

17
0

पंजाब डेस्क : आज बड़ी संख्या में सिख भाईचारा बीजेपी में शामिल हुआ, जिस दौरान बीजेपी नेता तरुण चुघ विरोधियों पर भड़के हुए नजर आए। इस दौरान उन्होंने आम आदमी पार्टी के सुप्रीमो व दिल्ली सी.एम. अरविंद केजरीवाल व कांग्रेस के मेनिफेस्‍टो तंज कसा है। उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार व गरीबों के खजाने को लूटने के आरोप में जेल में बंद केजरीवाल का सी.एम. का मोह नहीं जा रहा है। उन्हें जेल में भी सी.एम. का पद चाहिए। यही नहीं लाल बत्ती चाहिए, शीश महल चाहिए, गनमैन चाहिए, रेड कार्पेट चाहिए।

तरुण चुघ ने आगे कहा कि दुर्भाग्यपूर्ण  बात है कि सता में डूबी आम आदमी पार्टी जेल से ही मुख्यमंत्री के पद को चलाना चाहती है। इसके लिए चाहे फिर बच्चों का नुकसान, चाहे दिल्ली की जनता के जो फैसले होने है उनका नुकसान हो। नीतिगण फैसलों का नुकसान हो रहा है। वहीं कांग्रेस पार्टी पर निशाना साधते हुए चुघ ने कहा कि कांग्रेस पार्टी जानबूझ कर एससी/एसटी/ओबीसी भाईयों का उनके नौकरियां उनके अवसर छीन कर मुस्लिमों को देना चाहती है। कांग्रेस पार्टी ने साफ अपने मैनिफैस्टो में कहा कि आरक्षण का फायदा मुस्लिमों को दिया जाएगा, जोकि गैर कानूनी है, भारतीय जनता पार्टी ऐसा होने नहीं दिया जाएगा। संविधान के अनुसार किसी को भी धर्म के अनुसार आरक्षण नहीं दिया जाएगा।

इस दौरान चुघ ने बड़ी संख्या में बीजेपी में शामिल हुए सिखों भाईचारे का स्वागत किया। उन्होंने कांग्रेस पार्टी को घेरते हुए कहा कि 1984 में सिखों का कत्लेआम करने वाली, सिखों के गले में टायर डालने वाली, गुरुद्वारों पर टैंक चढ़ा वाली कांग्रेस पार्टी है। एक तरफ वह पार्टी जिन्होंने गुरुद्वारे जलाए। आज भी जगदीश टायटलर, सज्जन कुमार, एचकेएल भगत, कमल नाथ, माकन परिवार क नाम लेते ही 1984 की याद आती है। दूसरी तरफ प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी है जो करतारपुर कोरिडोर खुलवाने का काम करती है। जो श्री दरबार साहिब के आसपास सुंदर गलियारा बनाती है और लंगर को टैक्स फ्री करती है। काली सूचियों को समाप्त करती है। गुरुद्वारों के अंदर और  श्री दरबार साहिब में बाहर से पैसा सके उसके लिए एफसीआरएक करवा रही है। 1984 के अपराधियों को सजा दिलाने का काम हो या श्री गुरु नानक देव जी व गुरु गोबिंद सिंह की शिक्षाओं का पर्व हो चाहे 350वां प्रकाश पर्व हो पूरे विश्व में मनाना।