India Vix में रिकॉर्ड गिरावट, 3 दिन में निवेशकों को 10 लाख करोड़ का नुकसान

29
0

बिजनेस डेस्कः शेयर बाजार का सेंटीमेंड या मूड अचानक बदला हुआ नजर आ रहा है। बाजार में भारी उठापटक देखी जा रही है और ये अनुमान जताया जा रहा कि 4 जून 2024 को लोकसभा चुनावों के नतीजों के ऐलान से पहले तक बाजार में इस उठापटक में और भी इजाफा देखने को मिल सकता है। बाजार में इस अस्थिरता के माहौल का अंदाजा India Vix से लगा सकते हैं जो लगातार बढ़ता जा रहा है और एक साल के हाई पर जा पहुंचा है। इंडिया Vix के जरिए बाजार में निकट भविष्य में अस्थिरता को मापा जाता है। बाजार में जब ज्यादा उठापटक की संभावना नजर आती है या उसके हालात बनने लगते हैं तो India Vix बढ़ने लगता है और अस्थिरता के माहौल में गिरावट आती है तो India Vix गिरने लगता है। पिछले तीन कारोबारी सत्र में निवेशकों को 10 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा का नुकसान हो चुका है।

80% गिरा India Vix

मंगलवार 7 मई के कारोबारी सत्र में India Vix यानि वोलैटिलिटी इंडेक्स करीब 6.62 फीसदी के उछाल के साथ 17.64 पर जा पहुंचा जो कि एक साल की अवधि का हाई है। 23 अप्रैल 2024 को वोलैटिलिटी इंडेक्स 9.85 के लेवल पर था। आज अगले 14 दिनों में ये 79 फीसदी से ज्यादा के उछाल के साथ बढ़कर 17.64 के लेवल पर जा पहुंचा।

क्या है इंडिया Vix?

इंडिया VIX या अस्थिरता सूचकांक शेयर बाजार में निकट अवधि में अस्थिरता को मापता है। बाजार में अस्थिरता के दिनों में जैसे बाजार ऊपर नीचे होता है ठीक उसी प्रकार इंडिया VIX भी बढ़ने या घटने लगता है। बाजार में उठापटक की संभावना जब कम हो जाती है तो इंडिया Vix घट जाता है और अगर उठापटक की संभावना बढ़ जाती है तो इंडिया Vix बढ़ जाता है। एनएसई के निफ्टी के आर्डर बुक के आधार पर इंडिया Vix की गणना की जाती है।

क्यों गिर रहा शेयर बाजार

लोकसभा चुनाव के नतीजों को लेकर शेयर बाजार की बेचैनी बढ़ने लगी है। पहले दो चरणों में मतदान प्रतिशत कम रहा है। तीसरे फेज के वोट आज गिर रहे उसमें भी वोटरों में उत्साह का अभाव नजर आ रहा है। जानकार ये सोचने को विवश हो गए हैं कि कम मतदान से किसको नुकसान और किस फायदा होगा। लोकसभा चुनाव के वोटों की गिनती 4 जून को होगी और उसी दिन चुनाव की तस्वीरें साफ हो जाएंगी लेकिन पिछले तीन कारोबारी सत्र में निवेशकों को 10 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा का नुकसान हो चुका है।