Punjab:रेलवे को हुआ करोड़ों का नुकसान, जानें पूरा मामला

20
0

जालंधर- किसानों ने 17 अप्रैल को शंभू रेलवे स्टेशन पर धरना शुरू किया था, जो 33 दिन बाद खत्म हो गया है। इस बीच पंजाब आने वाला रेलवे ट्रैक बुरी तरह प्रभावित हुआ और ट्रेनों को बदले हुए रूट से पंजाब भेजा गया। इसके चलते रेलवे को करीब 33 दिनों में 30 हजार से ज्यादा यात्रियों के टिकट रिफंड करने पड़े, जिससे रेलवे को करोड़ों रुपये का घाटा उठाना पड़ा।

बता दें कि किसानों के धरना खत्म करने की घोषणा से पहले ही ट्रेन लेट हो गई। सुपर फास्ट श्रेणी 22487 वंदे भारत एक्सप्रेस (अमृतसर-नई दिल्ली) 7 घंटे से अधिक की देरी से जालंधर सिटी रेलवे स्टेशन पर पहुंची। इसी तरह 18238 छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस साढ़े 9 घंटे, 12925 पश्चिम एक्सप्रेस 2 घंटे, 12030 स्वर्ण शताब्दी एक्सप्रेस 4 घंटे और दूसरे रूट की शताब्दी 12029 करीब 6 घंटे लेट रही। 11905 आगरा एक्सप्रेस करीब 2 घंटे, 12317 अकाल तख्त एक्सप्रेस करीब 6 घंटे देरी से पहुंची। ट्रेनों का इंतजार कर रहे यात्री इस भीषण गर्मी में बेहाल नजर आये। ट्रेनों के पहुंचने के समय का सटीक अनुमान नहीं होने के कारण यात्री समय से पहले ही अपने घरों से निकल जाते थे और स्टेशन पर इंतजार करते-करते बेचैन हो जाते थे।

हड़ताल के कारण रेलवे द्वारा ट्रेनों को दूसरे रूटों से पंजाब भेजा जा रहा था, जिससे ट्रेनों की परिवहन लागत काफी महंगी हो रही थी। विभाग की ओर से पंजाब से दिल्ली जाने वाली ट्रेनों को साहनेवाल से वाया चंडीगढ़ और अंबाला होते हुए दिल्ली भेजा जा रहा था।

अधिक सिंगल ट्रैक होने के कारण ट्रेनों को रास्ते में रोकना पड़ता था, जिसके कारण ट्रेनें अपने निर्धारित समय से देरी से पहुंच रही थीं। इसी सिलसिले में दिल्ली से पंजाब आने वाली ट्रेनों को जाखल, धूरी और लुधियाना के रास्ते भेजा जा रहा था।अंबाला कैंट से चंडीगढ़, न्यू मोरिंडा, सरहिंद और साहनेवाल के रास्ते जालंधर और अमृतसर के लिए अधिक ट्रेनें भेजी गईं। बताया जा रहा है कि इन रूटों से रेलवे को काफी नुकसान उठाना पड़ा। पंजाब के कई व्यवसायी रेलवे के माध्यम से माल मंगवाते हैं और इसी माध्यम से भेजते हैं, लेकिन एक महीने तक ट्रेनें बाधित रहने के कारण व्यवसायियों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। इससे माल समय पर नहीं पहुंच पाता, जिससे माल की डिलीवरी समय पर नहीं हो पाती। व्यापारियों का कहना है कि इससे उन्हें भारी नुकसान उठाना पड़ा।