Aayushman Card का लाभ लेने वाले लोग दे ध्यान, शामिल होने जा रहा ये महंगा इलाज

29
0

चंडीगढ़: पी. जी. आई. में आयुष्मान भारत योजना के तहत कैंसर जैसी बीमारियों का इलाज हो रहा है। अप्लास्टिक एनीमिया नामक एक दुर्लभ ब्लड डिसऑर्डर (रक्त विकार) है। दुर्लभ होने के साथ-साथ बीमारी का इलाज भी बहुत मंहगा है। अब पी. जी. आई. अप्लास्टिक एनीमिया नामक बीमारी को भी आयुष्मान भारत योजना के तहत लाने की तैयारी कर रहा है।

क्लीनिकल हैमेटोलॉजी विभाग के हैड डॉ पंकज मल्होत्रा की मानें तो सरकारी अस्पताल में इलाज 10 लाख या ऊपर चला जाता है। आयुष्मान योजना के पैनल में पी.जी.आई. भी शामिल हैं। हम कोशिश कर रहे हैं कि इस बीमारी को आयुष्मान के अंदर लाया जा सके, ताकि इस बीमारी के मरीजों को इलाज मिल सके। सरकारी अस्पताल में अप्लास्टिक एनीमिया के ईलाज पर करीब 10 लाख खर्च आता है। आयुष्मान योजना के तहत 5 लाख की मदद होती है तो मरीज का आधा भार कम हो सकता है। इस बीमारी का कारण अभी तक मैडिकल साइंस में पता नहीं है। 80 प्रतिशत मामलों में जीवन शैली कारण है, जबकि 20 प्रतिशत में जैनेटिक यानी अनुवांशिकता वजह बनता है। इस बीमारी में शरीर में खून नहीं बनता और ब्लड सैल बनने बंद हो जाता है। हर हफ्ते खून और सैल चढ़ाना आसान नहीं होता। इस बीमारी के ईलाज के लिए कुछ थेरपी है, जो कि इलाज में इस्तेमाल होती है, लेकिन वह काफी महंगी है।

आयुष्मान भारत योजना में पहले नंबर पर पी.जी.आई.
आयुष्मान योजना के तहत पी.जी.आई. देशभर में पहला ऐसा अस्पताल है, जहां सबसे ज्यादा मरीजों को इलाज दिया जाता है। पिछले साल योजना के तहत एक लाख लोगों को यह सुविधा दी गई। पी.जी.आई. निदेशक कई मौकों पर कहते आए है कि पी.जी.आई. 2024 में नंबर तक लेकर जाना चाहते हैं।