मुलाजिम पगड़ी, जूते और गुप्त अंग में छुपा कर ले जाते थे जेल के अंदर नशा: CP Bhullar

12
0

अमृतसर: केंद्रीय जेल अमृतसर में पिछले कई सालों से नशे का गंदा धंधा चल रहा था। इस बारे में अधिकारियों को शक था। जेल के कुछ कर्मचारी कैदियों के साथ मिलकर नशे का नेटवर्क चला रहे हैं। मगर यह सब कुछ इतने शातिर अंदाज से अंजाम दिया जा रहा था कि जेल के बड़े अधिकारी भी चकमा खा जाते थे। केंद्रीय जेल के नए सुपरिंटैंडैंट द्वारा अपनी टीम के साथ मिलकर नशे के नेटवर्क का भंडाफोड़ किया गया। इसके बाद सिटी पुलिस के अधिकारियों और थाना इस्लामाबाद की पुलिस ने मामले की जांच को आगे बढ़ाया और इस केस में शामिल 7 कैदियों की गिरफ्तारी की गई है।

जेल के एक सुरक्षाकर्मी और जेल में तैनात लैब टेक्नीशियन को भी गिरफ्तार किया गया। पकड़े गए मुलाजिमों से खुलासा हुआ है कि वह पगड़ी, जूते और गुप्तांग में छुपाकर नशा जेल के अंदर ले जाते थे और हर खेप के बदले में 5000 मिलते थे। पुलिस कमिश्नर गुरप्रीत सिंह भुल्लर ने गिरोह के नेटवर्क का भांडा फोड़ करने की जानकारी बुधवार को दी है। उन्होंने बताया है कि जेल में बंद 6 कैदियों को बठिंडा जेल में शिफ्ट कर दिया गया है और इस केस में शामिल एक गैंगस्टर साजन कल्याण उर्फडडू को सुरक्षा के मद्देनजर अमृतसर में ही रखा गया है।

12 अप्रैल को पहला मामला सामने आया। जेल की सुरक्षा के लिए पंजाब पुलिस के आईआरबी 5 बटालियन के जवानों की तैनाती की गई है। कांस्टेबल मंगत सिंह निवासी ग्रीन सिटी जब ड्यूटी पर पहुंचा तो उसकी तलाशी ली गई। इस तलाशी के दौरान उसके कब्जे से तंबाकू और 50 ग्राम हैरोइन बरामद की गई। थाना इस्लामाबाद में केस दर्ज करवाया गया। इसके बाद दूसरा मामला 30 अप्रैल को सामने आया। जेल में तैनात स्वास्थ्य विभाग के लैब टैक्नीशियन जसदीप सिंह की गिरफ्तारी की गई। उसके कब्जे से 149 ग्राम अफीम, 8400, पहचान पत्र और दो मोबाइल फोन बरामद किए गए। मामला पुलिस के पास पहुंचा।

थाना इस्लामाबाद की पुलिस द्वारा केस दर्ज कर मामले की जांच की गई। जांच के दौरान पाया गया के जेल में बंद कैदियों के पास नशीले पदार्थ पहुंच रहे थे। वह जेल में आगे जेल में बंद कैदियों और हवालातियों को सप्लाई कर रहे थे। थाना इस्लामाबाद की पुलिस द्वारा इस मामले में जेल में बंद कुख्यात अपराधी जय कुश कुमार निवासी सेवा नगर नजदीक पैट्रोल पंप रामतीर्थ रोड को गिरफ्तार किया है। फिर उसके भाई अभिषेक भट्टी को गिरफ्तार किया गया।

कांस्टेबल और लैब टैक्नीशियन दोनों की गिरफ्तारी में उनकी भूमिका सामने आई है। दोनों ही उनके पास नशीला पदार्थ जेल के बाहर से अंदर पहुंचाते थे। उसे जेल से प्रोडक्शन वारंट पर लाकर पूछताछ की गई है। इसके अलावा जेल में ही बंद गुरजीत सिंह निवासी गांव झंडेर, लवप्रीत सिंह उर्फ लव निवासी गांव भूरे गिल कस्बा रमदास, गुरमीत सिंह मीता निवासी चौधरी हरी सिंह नगर जोड़ा फाटक, अवतार सिंह निवासी गांव चक पंडोरी और गैंगस्टर साजन कल्याण उर्फ ड्डडू को भी जेल से प्रोडक्शन वारंट पर लाया गया। लैब टैक्नीशियन केस में गिरफ्तारी डाली गई है और नशे के पूरे नेटवर्क का खुलासा किया गया ।