बीजेपी बहुमत से दूर, चंद्रबाबू नायडू, नीतीश कुमार ने तय की शर्तें, मोदी सरकार के सामने रखे तीन मंत्रालय की मांग

41
0

नेशनल डेस्क:   लोकसभा में भाजपा के बहुमत से दूर रहने के बाद, एनडीए में उसके सहयोगियों ने केंद्र में महत्वपूर्ण मंत्रालयों के लिए कड़ी सौदेबाजी शुरू कर दी है। समझा जाता है कि गठबंधन युग के दिग्गजों एन चंद्रबाबू नायडू और नीतीश कुमार सहित सहयोगियों ने कल हुई एनडीए बैठक में अपनी मांगें रखीं। उन्होंने क्या मांग की है, इस पर अभी तक कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है, लेकिन पता चला है कि व्यस्त बातचीत जारी है।

ऐसी अटकलें हैं कि  नायडू की टीडीपी, जिसने 16 लोकसभा सीटें जीती हैं और आंध्र प्रदेश विधानसभा चुनावों में भी जीत हासिल की है, ने वित्त राज्य मंत्री पद और लोकसभा अध्यक्ष पद सहित पांच मंत्री पद की मांग की है। टीडीपी सड़क, पंचायती राज, स्वास्थ्य और शिक्षा जैसे विभागों पर भी विचार कर सकती है।

JDU सूत्रों के हवाले से खबर है कि नीतीश कुमार ने तीन मंत्रालय की मांग रखी है। उन्होंने बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने के साथ ही चार सांसद पर एक मंत्रालय का फॉर्मूला सरकार के सामने रखा है. दरअसल 12 सांसद जेडीयू के है, इसलिए वह 3 मंत्रालय चाहती है. सूत्रों से मिली खबर के मुताबिक नीतीश कुमार रेल , कृषि और वित्त मंत्रालय चाहते हैं. वहीं रेल मंत्रालय प्राथमिकता में है।

पार्टी सूत्रों ने कहा कि JDU, जिसके अब लोकसभा में 12 सांसद हैं, दो कैबिनेट बर्थ और एक एमओएस भूमिका की उम्मीद करती है। उन्होंने कहा कि रेल मंत्री का पद एक महत्वपूर्ण विकल्प होगा। नीतीश कुमार के नेतृत्व वाली पार्टी नई एनडीए सरकार के लिए एक न्यूनतम साझा कार्यक्रम और इसके कार्यान्वयन को सुनिश्चित करने के लिए एक समन्वय समिति पर भी जोर दे सकती है। न्यूनतम साझा कार्यक्रम एक संकल्प है, जो गठबंधन में पार्टियों के साझा एजेंडे को रेखांकित करता है।