PM मोदी ने खिलाड़ियों को दिया दिल्ली आने का न्योता, बोले- वहां बैठेंगे और बातें करेंगे

98
0

नेशनल  : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने क्रिकेट विश्व कप फाइनल में ऑस्ट्रेलिया से शिकस्त मिलने के बाद निराशा में डूबे भारतीय खिलाड़ियों का ड्रेसिंग रूम में जा कर हौसला बढ़ाया। 19 नवंबर रविवार को अहमदाबाद में भारत और आस्ट्रेलिया के बीच खेले गए फाइनल मैच को देखने के लिए पीएम मोदी भी यहां पहुंचे थे।

भारत के 240 रन के जवाब में ऑस्ट्रेलिया ने 43 ओवर में चार विकेट पर 241 रन बनाकर जीत दर्ज की। ऑस्ट्रेलिया की ओर से ट्रेविस हेड ने 137 रन बनाए। विश्व कप में लगातार 10 जीत के बाद फाइनल में हार के बाद भारत के कई खिलाड़ियों की आंखे नम दिखीं। भारतीय हरफनमौला रविंद्र जडेजा और तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी ने प्रधानमंत्री के साथ ड्रेसिंग रूम में बिताए पल को ट्विटर पर शेयर किया। खिलाड़ियों से मुलाकात का वीडियो भी सामने आया है।

 

पीएम मोदी ख‍िलाड़‍ियों से बातचीत के दौरान कहा कि देशवासी आपको देख रहे हैं, हौसला रखें। पीएम मोदी संग गृहमंत्री अम‍ित शाह भी नजर आए। पीएम मोदी ने कहा कि एक दूसरे को ह‍िम्मत देते रह‍िए, वहीं उन्होंने सभी ख‍िलाड़‍ियों को द‍िल्ली आने का भी न्योता दिया। पीएम मोदी ने कहा कि दिल्ली में हम लोग बैठेंगे और बातें करेंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी संग भारतीय ख‍िलाड़‍ियों की बातचीत का वीडियो PMO की ओर से जारी हुआ, सबसे पहले पीएम मोदी ने भारतीय कप्तान रोहित शर्मा और स्टार बल्लेबाज विराट कोहली के कंधे पर हाथ रखकर बात की।

पीएम मोदी ने कहा कि आप लोग 10-10 गेम जीतकर यहां आएं हैं, ये तो होता रहता है। प्रधानमंत्री ने न‍िराश रोह‍ित से कहा कि मुस्कराइए भई, देश आप लोगों को देख रहा है, यह सब होता रहता है। रोह‍ित शर्मा और व‍िराट कोहली ने ड्रेसिंग रूम में आकर होसलाअफजाई करने के लिए थैंक्स कहा। पीएम मोदी ने बारी-बारी सभी खिलाड़ियों से बात की और उनका हौसला बढ़ाया।

शुभमन गिल और श्रेयस अय्यर जैसे युवा खिलाड़ियों के लिए इस हार को पचा पाना मुश्किल था तो वहीं मजबूत मानसिकता वाले अनुभवी स्पिनर रविचंद्रन अश्विन का दिल भी इस हार से टूटा। अय्यर ने ट्विटर पर लिखा, ‘‘ हमारा दिल टूट गया है, हम अब भी उस निराशा से बाहर नहीं निकल पाए हैं। इससे उबरने में अभी और समय लगेगा।’’ उन्होंने लिखा, ‘‘मेरा पहला विश्व कप एक ऐसा अनुभव था जिसने मुझे बहुत कुछ सिखाया। शुरुआत से अंत तक हमारा समर्थन करने के लिए बीसीसीआई (भारतीय क्रिकेट बोर्ड), टीम प्रबंधन, सहयोगी स्टाफ, मेरे साथियों और आप सभी प्रशंसकों को धन्यवाद। इस बार भारत ने पूरी उम्मीद जताई थी कि वर्ल्ड कप हमारा होगा लेकिन यह सपना पूरा नहीं हो पाया।