अजब आस्थाः मंदिर से चुराए गहने 9 साल बाद चोर ने किए वापिस

40
0

ओडिशाः भुवनेश्वर के बाहरी इलाके में स्थित एक राधा कृष्ण मंदिर से 9 साल पहले एक चोर ने चांदी के गहने चुराए थे। अब 9 साल बाद वह चोर मंदिर पहुंचा और लिखित माफीनामे के साथ चोरी किए सारे गहने वापस कर दिए। चोर ने बाकायदा अपनी तरफ से 201 रुपए दान किए और दंड के तौर पर 100 रुपए अतिरिक्त भी दिए हैं। यह मामला इलाके में चर्चा का विषय बना हुआ है। मामला मई 2014 का है, जब भुवनेश्वर के धौली थाने के अंतर्गत गोपीनाथपुर गांव में राधा-कृष्ण मंदिर के चांदी के कई आभूषण चोरी हो गए थे। चोरी हुए आभूषणों में टोपी, कान की बाली, कंगन और एक बांसुरी शामिल है। पुलिस में शिकायत दर्ज कराने और तलाशी लेने के बावजूद भी ग्रामीणों को न तो चोर के बारे में कोई जानकारी मिल सकी और न ही चोरी हुए जेवरात बरामद हुए।

धौली थाने के प्रभारी निरीक्षक चितरंजन राउत ने बताया कि करीब 4 लाख रुपये मूल्य के आभूषणों से भरा बैग जिस मंदिर से चोर ने चुराया था, वह मंदिर के बगल में एक घर के बाहर रखा हुआ था। “नोट में उसने उल्लेख किया है कि वह 301 रुपये छोड़ रहा है, जिसमें से 201 रुपये दान के लिए थे और 100 रुपये दंड के रूप में थे। उसने लिखा कि जब मंदिर में यज्ञ किया जा रहा था तब उसने गहने ले लिए। गहने चोरी करने के बाद उसे एक का सामना करना पड़ा।” धौली पुलिस थाने के प्रभारी निरीक्षक चित्तरंजन राउत ने कहा, नौ साल के दौरान शायद चोर के जीवन में बहुत सारी समस्याएं आईं होगी और इसलिए उसने गहने वापस करने का फैसला किया। हालांकि नोट में चोर ने अपना नाम नहीं बताया है।

मंदिर के पुजारी कैलाश पांडा ने कहा कि चोरी गए आभूषणों की बरामदगी किसी चमत्कार से कम नहीं है। “हमें उम्मीद नहीं थी कि गहने फिर से इस तरह निकलेंगे। हमने घटना के बाद देवताओं के लिए नए गहने खरीदे थे। यह ईश्वरीय हस्तक्षेप के अलावा और कुछ नहीं है।” INTACH के अबिल धीर के अनुसार, मंदिर की मूर्ति चोरी और चोरी की गई कलाकृतियों को बरामद करने में विफलता दोनों में ओडिशा सूची में सबसे ऊपर है। “पुरातनता अधिनियम में कोई दंडात्मक प्रावधान नहीं है और विरासत की चोरी के लिए उपलब्ध एकमात्र धारा आईपीसी की धारा 370 है, जो मुख्य रूप से घर में सेंध लगाने की चोरी से संबंधित है और अधिकतम छह साल और 3,000 रुपये का जुर्माना है। इसे और सख्त किए जाने की जरूरत है।’