ट्रक में गौमांस मिलने के मामले में आया नया मोड़, पुलिस जल्द ही यू.पी. होगी रवाना

21
0

जालंधर : पठानकोट चौक में रोके गए ट्रक से गौमांस मिलने के मामले में नया मोड़ आया है। यू.पी. के व्यापारी ने एक सर्टीफिकेट सौंपा है, जिसमें डॉक्टरों के हस्ताक्षर हैं और लिखा है कि पुलिस द्वारा कब्जे में लिया गौमांस नहीं, बल्कि भैंस का मांस है। इसकी पुष्टि पुलिस ने की है लेकिन पुलिस का कहना है कि इस सर्टीफिकेट की जांच जरूरी हैं ताकि पता चल सके कि कहीं सर्टीफिकेट जाली न हो।

ऐसे में थाना 8 की पुलिस जल्द यू.पी. के लिए रवाना होगी। थाना 8 के ए.एस.आई. निर्मल सिंह ने बताया कि गिरफ्तार दोनों आरोपियों का रिमांड खत्म होने पर उन्हें जेल भेज दिया है। व्यापारी ने सर्टीफिकेट दायर करके मांस की सुर्पुदगी भी मांगी है। इससे पहले जिस विभाग से सर्टीफिकेट जारी हुआ है वहां जाकर जांच की जाएगी और फिर जो सैंपल लिए गए हैं उसकी रिपोर्ट का भी इंतजार करना है।

ए.एस.आई. निर्मल सिंह ने कहा कि जिस समय संदिग्ध गौमांस पकड़ा था तो वैटरनरी डॉक्टरों के पैनल ने मांस के सैंपल लिए थे जिसकी रिपोर्ट अभी तक नहीं आई है। व्यापारी द्वारा सर्टीफिकेट दायर करने पर अब फिलहाल संदिग्ध गौमांस के संस्कार को भी रोका जा सकता है। बता दें कि बीते शुक्रवार को बजरंग दल और गौरक्षक के कार्यकर्ताओं ने पठानकोट चौक पर एक फ्रिजर ट्रक को रोका था। दावा किया गया था कि ट्रक में से 10.800 किलो गौमांस बरामद किया था।